Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi



Nawazuddin Siddiqui Biography in Hindi - नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की कहानी



Nawazuddin Siddiqui उन एक्टर्स में से थे जिन्हें किसी फिल्म में एक्टिंग और काम के लिए कई सालों तक मेहनत करनी पड़ी लेकिन Nawazuddin Siddiqui ने देश से लेकर विदेश तक इन कुछ सालों में अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया है Nawazuddin के पिताजी बताते हैं कि Nawazuddin पूरे साल पैसे जुटाता था और किसी त्योहार जैसे की ईद या दिवाली पर वह मूवी देखने थिएटर में जाता था Nawazuddin Siddiqui को मूवी और सिनेमा देखने का बचपन से ही शौक था Nawazuddin शुरू से ही अपने गांव से निकलना चाहते थे उसका सबसे बड़ा कारण यह था कि उनका गांव अच्छा नहीं था और उनके गांव में अच्छी सुख सुविधा नहीं थी उनके गांव की सोच सिर्फ इतनी थी कि खेती-बाड़ी करना और पैसे कमाना और उनके गांव में किसी प्रकार की कोई अच्छी कॉलेज स्कूल सुविधाएं नहीं थी अस्पताल की सुविधाएं नहीं थी  Nawazuddin Siddiqui बताते हैं कि उनके गांव में लोग सिर्फ तीन ही चीज जानते हैं खेती गन्ना और गन, गांव में माहौल अच्छा ना होने के कारण वह हरिद्वार चले गए जहां पर उन्होंने अपने B.SC केमिस्ट्री में पढ़ाई की|

Nawazuddin Siddiqui Biography
Nawazuddin Siddiqui Biography

पढ़ाई पूरी करने के बाद गुजरात के वडोदरा में वह किसी कंपनी में काम करने लगे लेकिन उस काम में उनका बिल्कुल भी मन नहीं लगता था लेकिन कुछ ना कुछ तो गुजारा करने के लिए करना ही था|
एक दिन उनके गुजराती दोस्त ने उनको एक नाटक दिखाया वह नाटक देख के Nawazuddin Siddiqui यह जान गए थे कि उनका जुनून एक्टिंग के अंदर ही था और वह एक्टिंग के अंदर ही अपना करियर बनाना चाहते थे|
जब Nawazuddin Siddiqui यह जान गए थे कि वह एक्टर बनना चाहते हैं तो उस वक्त वह उस कंपनी को छोड़कर वह दिल्ली आ गए और दिल्ली में कुछ जगह घूमे और यह दृढ़ निश्चय कर लिया कि वह एक्टर बनेंगे|
Nawazuddin Siddiqui ने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा दिल्ली से एक्टिंग सीखी और 4 साल तक व मूवी और पिक्चर्स में छोटे-मोटे रोल करते रहे लेकिन उससे उनका खर्चा नहीं चल रहा था सन 2000 में वह मुंबई इस आशा के साथ आ गए कि उन्हें जल्द ही टीवी सीरियल में काम मिल जाएगा जिससे उनका जीवन पटरी पर आ जाएगा लेकिन ऐसा कुछ नहीं हुआ और टीवी सीरियल्स में भी उन्हें काम नहीं मिला नवाज ने एक इंटरव्यू में बताया कि हर जगह वह अपना फोटो देते रहे लेकिन कोई भी रोल देने के लिए तैयार नहीं था वहां भिखारी बनाने के लिए भी तैयार नहीं था वह भिखारी के लिए भी होने 6 फीट का आदमी चाहिए होता था|
अब Nawazuddin Siddiqui के पास बिल्कुल भी पैसे नहीं बचे थे तो Nawazuddin Siddiqui ने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा के सीनियर से एक पनाह मांगी तो नेशनल ड्रामा स्कूल के सीनियर ने उन्हें एक शर्त पर अपने घर में पनाह दे दी और शर्त यह रखी कि उन्हें घर का सारा काम करना पड़ेगा|
और Nawazuddin ने थोड़े पैसों के लिए वॉचमैन की जॉब कर ली और सुबह से शाम तक वॉचमैन की जॉब करते थे उसके बाद शाम होने के बाद वह थिएटर करते थे सीरियल में जॉब ना मिलने के बाद नवाज ने फिल्मों में छोटे-मोटे रोल खोजना शुरू किया कैसे भी करके रोल मिला तो लेकिन उनके शुरुआती दिन बहुत ही कठिन थे उनका अभिनय पॉकेट मार और धक्का मार तक ही सीमित रह जाता था लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और आशा लगाकर बैठे रहते कि कभी ना कभी उन्हें कोई बड़ी भूमिका तो जरूर मिलेगी एक समय ऐसा भी था कि उनके पास खाना खाने के लिए पैसा नहीं था और उन्हें लगता था कि उन्हें गांव वापस चले जाना चाहिए|
लेकिन फिर वह सोचते कि आखिर क्या मुंह लेकर वह गांव जाए एक बार डायरेक्टर Anurag Kashyap ने उनका एक हिंदी नाटक देखा और प्रभावित होकर होने ब्लैक फ्राईडे में एक बड़ा रोल दिया जिससे Nawazuddin Siddiqui ने बखूबी रोल निभाया बस वहीं से उन्हें सफलता मिलना शुरू हो गई कुछ अच्छे और बड़े रोल मिलने की वजह से उनकी पैसों की समस्या काफी हद तक कम हो गई थी|
                                                      
लेकिन अभी भी वह संतुष्ट नहीं थे और अपना बेस्ट दे रहे थे नवाज के जीवन के इस संघर्ष नियत को देखते हुए अनुराग कश्यप ने उन्हें साइड स्टार से हटा करके स्टार बनाने की सोच लिया और गैंग ऑफ वासेपुर में उन्हें लीड रोल देती बस वहीं से नवाज ने पीछे मुड़कर नहीं देखा और इसके बाद “मांझी द माउंटेन मैन” ने अपने एक्टिंग का लोहा मनवाया बजरंगी भाईजान में भी उनके सपोर्टिंग रोल को बहुत सराहा गया उनकी कड़ी मेहनत और आत्मविश्वास के कारण ना सिर्फ वह बड़े पर्दे पर छा गए बल्कि बहुत सारे अवार्ड भी अपने नाम कर लिए, नवाज अपने आपको स्टार नहीं एक्टर मानते हैं उनका मानना है कि वह स्टार नहीं बनना चाहते हैं वह एक एक्टर बन के रहना चाहते हैं क्योंकि स्टार बनने के बाद आपकी एक पहचान बन जाती है और आप आसानी से घूम फिर भी नहीं सकते|



Nawazuddin Siddiqui का जन्म 19 मई 1974 को हुआ इनकी आयु लगभग 42 वर्ष की है इनका जन्म बुढ़ाना, मुजफ्फरनगर जिला, उत्तर प्रदेश भारत में हुआ इनकी राशि वृषभ है यह एक भारतीय हैं नवाजुद्दीन सिद्दीकी का घर बुढ़ाना,मुजफ्फरनगर जिला,उत्तर प्रदेश भारत में है, नवाजुद्दीन B.S.SInter College Budhana, Muzaffarnagar, Utar Pradesh स्कूल से पढ़े हुए हैं Nawazuddin Siddiqui ने गुरुकुल कांगड़ी यूनिवर्सिटी हरिद्वार उत्तराखंड में साइंस इन केमिस्ट्री में अपनी ग्रेजुएशन की पढ़ाई की|
Nawazuddin के पिताजी का नाम स्वर्गीय नवाजुद्दीन सिद्दीकी है और इनकी माता का नाम मेहरू सेना है Nawazuddin एक शादीशुदा है इनकी पत्नी का नाम अंजली सिद्दीकी हैं और इनकी एक बेटी है जिसका नाम शोरा है|
Nawazuddin Siddiqui धूम्रपान और शराब का सेवन करते हैं यह एक मुस्लिम परिवार में पैदा हुए इनके पिताजी किसान थे और उनकी उनके पास एक आरा मशीन भी थी अपने भाइयों में नवाज सबसे बड़े थे अपनी अभिनय की आकांक्षाओं को पूरा करने के लिए नवाज दिल्ली गए और एक थिएटर समूह में शामिल हो गए क्योंकि थिएटर में पर्याप्त पैसा नहीं था इसलिए उन्होंने अपनी जीवन निर्वहन के लिए एक चौकीदार के रूप में काम किया Nawazuddin Siddiqui ने टेलीविजन इंडस्ट्री में काम करने की कोशिश की लेकिन वह उसमें सफल नहीं हुए वर्ष 2002 और 2005 के बीच में उनके पास कोई काम नहीं था और वह मुंबई का एक फ्लैट में चार लोगों के साथ रहते थे|


Nawazuddin Siddiqui Photo, Nawazuddin Siddiqui
Nawazuddin Siddiqui Photo

Nawazuddin Siddiqui Photo
Nawazuddin Siddiqui Photo


Biography of Nawazuddin Siddiqui

Nickname:- Nowaz
Profession:- Actor
Height:- 168 Centimeter
Height:- 1.68 Meter
Height:- 5.6 Inch
Weight:- 60 Kg
Eye Color:- Dark Brown
Hair Color:- Black
Debut:- Sarfarosh (1999)
Debut:- Parsai Kehte Hai (2001; On DD National)

Personal Life Of Nawazuddin Siddiqui

D.O.B:- 19 May 1974
Age:- 48
Bithplace:- Budhana, Muzaffarnagar, Uttar Pradesh, India

Sun Sign:- Taurus
Nationality:- India
Hometown:- Budhana, Muzaffarnagar, Uttar Pradesh, India

School:- BBS Inter College Budhana, Muzaffarnagar, Utar Pradesh, India

College & University:- Gurukul Kangri University, Haridwar, Utarpradesh

College & University:- The National School of Drama (NSD), New Delhi

Educational:- Bachelor Of Science in Chemistry
Religion:- Islam
Caste:- Sunni
Food Habbit:- Non-Vegitarian
Address:- A3-Bedroom Sea-Facing Apartment in Versova, Mumbai
Hobbies:- Flying Kites, Watching Films, Farming


Family of Nawazuddin Siddiqui

Wife:- Anjali
Children:- Son:- Yaani
Children:- Daughter:- Shora
Father:- Late Nawabuddin Siddiqui
Mother:- Mehroonisa
Brothers:- Shamas Nawab Siddiqui
Brothers:- Ayaazuddin Siddiqui
Sister:- 2 Sister (Name Not Known)

Favorite of Nawazuddin Siddiqui 

Favorite Actor:- Amitabh Bachchan, Ashish Vidyarthi
Favorite Actress:- Sridevi
Favorite Destination:- Jaisalmer, Rajasthan
Cars Collection:- Ford Ikon & Ford Endeavor


 
Nawazuddin Siddiqui Picture, Nawazuddin Siddiqui , Nawazuddin
Nawazuddin Siddiqui Picture

Nawazuddin Siddiqui Picture
Nawazuddin Siddiqui Picture

Nawazuddin Siddiqui Social Media Links



Fact Of Nawazuddin Siddiqui


Nawazuddin Siddiqui का असली नाम नंबरदार Nawazuddin Siddiqui है उन्होंने अपना नाम फिल्मों में आने से पहले ही बदल दिया था|

Nawazuddin Siddiqui ने अपनी ग्रेजुएशन बीएससी केमिस्ट्री में की है और ग्रेजुएशन के बाद ही उनकी जॉब वडोदरा के एक फार्मास्यूटिकल कंपनी में जॉब चीफ केमिस्ट लग गई थी वहां पर उन्होंने 1 साल तक काम किया और तब तक उन्हें एक्टिंग में कोई दिलचस्पी नहीं थी|

जब Ranveer Singh बैंड बाजा बारात से अपना डेब्यू करने वाले थे तो Nawazuddin Siddiqui को हायर किया गया था Ranveer Singh को एक्टिंग की वर्कशॉप देने के लिए और यह बात बहुत ही कम लोगों को पता है क्योंकि उस वक्त Nawazuddin Siddiqui पॉपुलर एक्टर नहीं थे|

सभी ने Nawazuddin Siddiqui को gangs of wasseypur में लीड रोल देखा और अभी भी सभी लोग यही सोचते हैं कि यह Nawazuddin Siddiqui के लिए पहला लीड रोल था लेकिन सच्चाई यह है कि उनकी पहली मिस लवली फिल्म रही है मिस लवली इस फिल्म को रिलीज होना था 2012 में पर प्रोडक्शन में प्रॉब्लम होने के कारण इस फिल्म को 2014 में रिलीज किया गया|

लंच बॉक्स में Nawazuddin Siddiqui ने जो करैक्टर प्ले किया है यह करैक्टर उन्हें उनके दोस्त से मिला जो उनसे मिलते वक्त हमेशा यह कहता था “हेलो कैसे हैं आप” नवाज ने बताया कि उनका दोस्त लाइफ में किसी भी सिचुएशन पर हो पर वह दूसरों को हमेशा खुश रखता था और इसी क्वालिटी को देखते हुए नवाज को लंच बॉक्स में कैरेक्टर को प्ले करने में बहुत मदद मिली|

Nawazuddin Siddiqui Dilip Kumar की एक्टिंग को बहुत पसंद करते थे और वह mughal-e-azam में Dilip Kumar की एक्टिंग करना चाहते थे अगर उन्हें जब भी मौका मिलेगा तो वह mughal-e-azam फिल्म में दिलीप कुमार की एक्टिंग करेंगे|

Nawazuddin Siddiqui गरीब परिवार से नहीं थे बल्कि वह किसान परिवार से थे और उनके परिवार के पास काफी जमीने थी Nawazuddin Siddiqui जमींदारों के परिवार से थे और आज जिस जमीन पर उनके कई पीढ़ी खेती-बाड़ी करती आ रही है Nawazuddin Siddiqui स्वयं अपने मेहनत से एक्टर बनना चाहते थे इसलिए वे अपने परिवार से किसी भी प्रकार की कोई मदद नहीं लेते थे|

दिल्ली में थिएटर प्ले देखते हुए उन्होंने अपना मन बना लिया था कि वह एक्टिंग ही करेंगे और एक लोकल थिएटर ग्रुप के साथ जुड़ गए लेकिन दिल्ली में रहने के लिए सरवाइव करने के लिए उन्हें वॉचमैन की नौकरी करनी पड़ी जिसका ज़िक्र Nawazuddin Siddiqui ने कई इंटरव्यू में किया लेकिन कभी भी यह कहानी पता नहीं लगी कि Nawazuddin Siddiqui कैसे वॉचमैन की नौकरी की या कैसे उन्हें वह जॉब मिली Nawazuddin Siddiqui ने पब्लिक टॉयलेट में पोस्टर देखा था जिसमें लिखा था वॉचमैन नीडेड तो उसी पोस्टर से उन्होंने नंबर लेकर नोएडा की टॉय फैक्ट्री में एक वॉचमैन की नौकरी पाई थी Nawazuddin Siddiqui को वॉचमैन की जॉब के लिए कुछ सिक्योरिटी के तौर पर पैसे जमा कराने थे तो उन पैसों के लिए वह वापस अपने गांव आए और अपनी मां को बिना बताए अपनी मां के जेवर सिक्योरिटी के तौर पर गिरवी रखवा दिए फिर उन्होंने 1 साल तक वॉचमैन की नौकरी की और उन्हें महीना ₹500 मिला करते थे|

नवाज ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया कि उन्हें वॉचमैन की नौकरी करते वक्त पूरे दिन भर धूप में खड़ा रहना पड़ता था फिर थक हार कर वह चैन से छांव में बैठ जाते थे फिर उसी वक्त इत्तेफाक से कंपनी के मालिक आ जाते थे और वह इस तरह से आराम करते देख लेते थे और ऐसा Nawazuddin Siddiqui के साथ कई बार हुआ जिस वजह से उन्हें उस वॉचमैन की नौकरी से निकाल दिया वॉचमैन की नौकरी से निकाल देने पर Nawazuddin Siddiqui ने गिरवी रखे जेवर को मांगे तो कंपनी वालों ने कहा कि जेवर नहीं मिलेंगे आपकी नौकरी आपकी वजह से गई है

Nawazuddin Siddiqui ने BajrangiBhaijaanमें चार नवाब की एक्टिंग के लिए उन्होंने पाकिस्तानी न्यूज़ चैनल के असली चार नवाब से दोस्ती की थी शूटिंग के दौरान दोनों रोज एक दूसरे से बात किया करते थे|

मिस लवली मूवी में नवाजुद्दीन सिद्दीकी ऑनस्क्रीन किस करते हुए नजर आते हैं लेकिन हैरानी की बात यह है कि नवाजुद्दीन सिद्दीकी का यह पहला किस था उन्होंने एक इंटरव्यू में बताया कि इससे पहले उन्होंने कभी किसी लड़की को किस नहीं किया|

नवाजुद्दीन सिद्दीकी की पहली फिल्म सरफरोश थी जिसमें उनका पहला रोल 40 सेकंड का था सबसे इंटरेस्टिंग बात यह है कि इस सीन के लिए उनके दोस्त को सिलेक्ट किया गया था लेकिन वह शूटिंग के दिन उपलब्ध नहीं थे तो फिर अपने दोस्त की जगह नवाज को उस सीन में ले लिया गया और यह नवाज के फिल्म के करियर का सबसे पहला सीन बना|

Nawazuddin With Shah Rukh Khan
Nawazuddin With Shah Rukh Khan

Nawazuddin Siddiqui in Suit
Nawazuddin Siddiqui in Suit


जब नवाजुद्दीन सिद्दीकी अपने सीनियर्स के साथ रहते थे तो उनके सीनियर्स उनको नौकर की तरह रख रहे थे तो इस दौरान राजपाल ने उनको अपने घर में जगह दी और उस वक्त राजपाल भी स्ट्रगल कर रहे थे|

नवाजुद्दीन स्ट्रगल के दिनों में अपने मां को खत लिखा करते थे और उनकी मां ही उनके लिए सबसे बड़ी सपोर्टर रही है|

सरफरोश पिक्चर में नवाजुद्दीन सिद्दीकी का रोल देख कर अनुराग कश्यप ने उन्हें वादा किया था कि वह अपनी फिल्म में रोल देंगे और ब्लैक फ्राइडे मूवी में नवाज को तीन मुख्य रोल दिए गए उस रोल के जरिए नवाजुद्दीन को काफी अच्छा पैसे भी मिले उन पैसों की सहायता से नवाजुद्दीन ने अपनी मां के गिरवी रखे जेवरात को जुड़वा लिए|

नवाजुद्दीन सिद्दीकी की पहली मुलाकात अनुराग कश्यप से रेलवे स्टेशन पर हुई उस वक्त अनुराग कश्यप रेलवे स्टेशन पर अपने दोस्तों के साथ बारिश से बचने के लिए बैठे हुए थे|

नवाजुद्दीन सिद्दीकी पैसों की कमी के कारण उन्हें शोर मूवी के अंदर एक वेटर का रोल करना पड़ा मनोज वाजपेई जी ने उन्हें मना किया था और कहा था कि यह रोल उनके लायक नहीं है फिर भी पैसों की तंगी के कारण होने यह रोल करना पड़ा शोर मूवी में उन्हें वेटर के रोल के लिए 1500 रुपए देने का वादा किया गया था लेकिन जब भी नवाज पैसे मांगने जाते तो उन्हें पैसे नहीं मिलते थे फिर नवाज कहा करते थे कि अगर पैसे नहीं है तो खाना ही खिला दो ऐसे ही उन्होंने बिना पैसों के कई दिन बिताए और एक वक्त का खाना खाकर वापस आ जाया करते थे|



नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी
नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी


रमन राघव” फिल्म की शूटिंग के दौरान नवाजुद्दीन सिद्दीकी की तबीयत बहुत ज्यादा खराब हो गई और उन्हें हॉस्पिटल में 4 दिन के लिए एडमिट करना पड़ा जब उनकी वाइफ उन्हें देखने आई तो उनकी वाइफ ने उन्हें काफी गंभीर हालत में देखा लेकिन फिर भी नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी के जुबान पर “रमन राघव” फिल्म के डायलॉग थे इससे पता चलता है कि नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी अपने काम को लेकर के काफी ज्यादा सीरियस है|


Read Also:-

                                                       

Previous
Next Post »