Ranveer Singh Biography in Hindi


Ranveer Singh Biography in Hindi - रणवीर सिंह की बायोग्राफी हिंदी में


चाहे बात हो बैंडबाजा बारात की या बाजीराव मस्तानी की अपने गजब की एनर्जी से सबको हैरान कर देने वाले Ranveer Singh ने पूरे भारत को आज अपना दीवाना बना कर रखा हुआ है हालांकि शुरुआत में किसी ने इनको पागल बोला तो किसी ने छिछोरा लेकिन दूसरों की बातों की परवाह किए बिना Ranveer Singh ने अपनी मेहनत पर भरोसा रखा और बॉलीवुड को एक से बढ़कर एक सुपरहिट फिल्में दी और आज नतीजा यह है कि Ranveer Singh इंटरनेट से लेकर न्यूज़पेपर तक या फिर टेलीविजन हर जगह पर उन्हीं की चर्चाएं सुनाई देती है, 6 जुलाई 1985 में Ranveer Singh का जन्म हुआ, Ranveer Singh भवनानी का एक सिंधी परिवार में जन्म हुआ उनके पिता का नाम जगजीत सिंह और माताजी का नाम मंजू है इसके अलावा इनकी एक बहन भी है जिसका नाम रितिका भवनानी है रणवीर सिंह के दादा दादी कराची पाकिस्तान में रहते थे लेकिन बंटवारे के बाद वह मुंबई में आकर बस गए


Ranveer Singh Biography in Hindi, Ranveer Singh Biography, Ranveer Singh

Ranveer Singh Biography in Hindi


और कहां जाता है कि Ranveer Singh बचपन से ही बहुत शरारती थे एक बार Ranveer Singh अपने दादा दादी के साथ एक पार्टी में गए थे और वहां उनकी दादी का बस कहना ही था कि वह स्टेज पर बिना शर्माए 1991 में आई मूवी हम का चुम्मा चुम्मा सॉन्ग पर ऐसा डांस किया उनकी परफॉर्मेंस को देखकर तालियों की गड़गड़ाहट पूरे हॉल में गूंज गई और किसी ने सच ही कहा है कि कलाकार भी तालियों का ही भूखा होता है इस परफॉर्मेंस के बाद से Ranveer Singh ने एक एंटरटेनर बनने का सपना देख लिया और उनकी तमन्ना थी कि वह बड़े होकर एक्टर बने इसीलिए स्कूल में होने वाले हर एक्टिविटी में हमेशा ही आगे रहते थे और फिर HR College of Commerce Economics में एडमिशन लेने के बाद से Ranveer Singh को यह महसूस हुआ कि फिल्मों में काम करना इतना आसान भी नहीं है और इसीलिए उन्होंने पढ़ाई पर ज्यादा ध्यान देना शुरू कर दिया उन्होंने United StatedIndiana University से बैचलर ऑफ आर्ट्स की डिग्री हासिल की हालांकि वह Passion को साथ लिए एक्टिंग की भी ट्रेनिंग लेते रहे और फिर पढ़ाई पूरी होने के बाद से वे 2007 में मुंबई वापस आ गए और वापस आने के बाद उन्होंने कुछ सालों तक O&M, जय वॉल्टर थॉमस जैसी एजेंसियों के लिए कॉपीराइटर के तौर पर काम करने लगे हालांकि एक्टिंग में अपना करियर बनाने के लिए आगे चलकर उन्होंने अपना काम छोड़ दिया और फिर फिल्मों में काम करने के लिए लगातार ऑडिशंस देने लगे हालांकि लंबे समय तक उन्हें कोई बड़ी सफलता तो नहीं लेकिन छोटे-मोटे रोल मिलना शुरू हो गए थे

यह भी पढ़े :- 

Ranveer Singh को लग रहा था कि वे अपनी लाइफ में गलत निर्णय ले चुके हैं हालांकि उन्होंने कोशिश करना जारी रखा और कहां जाता है ना की हार ना मानो तो कोशिश नाकाम नहीं होती कोशिश करने वालों की कभी हार नहीं होती आखिरकार 2010 में Ranveer Singh को Yash Raj Filmls की ओर से बैंड बाजा बारात के लिए लीड रोल के लिए ऑफर किया गया दरअसल Ranveer Singh को बताया गया कि कॉस्टयूम डायरेक्टर उनके ऑडिशन को देखकर काफी प्रभावित हुए और इसीलिए उन्हें इस रोमांटिक कॉमेडी मूवी में लीड रोल के लिए ऑफर किया गया है और इस बात को सुनकर Ranveer Singh की खुशी का मानो ठिकाना ही नहीं रहा और वहीं पर वह फूट-फूट कर रोने लगे और जब Ranveer Singh को बताया गया कि इस मूवी में उनका रोल एक टिपिकल दिल्ली बॉय का है तो किरदार में ढलने के लिए वह दिल्ली यूनिवर्सिटी के कैंपस में वहां के स्टूडेंट के साथ समय बिताने लगे यह मूवी बॉक्स ऑफिस रिलीज हुई तब लोगों ने Ranveer Singh के किरदारों, बिट्टू शर्मा को खूब सराहा और उनकी पहली फिल्म 214 मिलियन का कारोबार किया और फिर उसके बाद बैंड बाजा बारात में उनकी एक्टिंग को देखते हुए उन्हें “लेडीज वर्सेस रिकी बहल”, “लूटेरा”, “गोलियों की रासलीला रामलीला”, “गुंडे”, “दिल धड़कने दो”, “बाजीराव मस्तानी” और “पद्मावती” की तरह ही एक से बढ़कर एक बेहतरीन फिल्मों में काम मिलता गया और अपने टैलेंट और मेहनत के दम पर आज Ranveer Singh इस मुकाम पर पहुंच चुके हैं जहां उन्हें भारत के सबसे सफल एक्टर की गिनती में गिना जाता है और उनके लाजवाब एक्टिंग को देखते हुए बैंड बाजा बारात और बाजीराव मस्तानी के लिए उन्हें फिल्म फेयर अवार्ड भी मिल चुका है|

Previous
Next Post »