What is network in hindi | Network kya hai | Types of network in hindi

What is network in hindi | Network kya hai | Types of network in hindi


What is network?

Network को एक इंटरकनेक्टेड सिस्टम कहां जा सकता है जिससे उस सिस्टम के सभी कंपोनेंट्स एक साथ मिलकर परंतु स्वतंत्र रूप से कार्य करते हैं जैसे टेलीविजन ब्रॉडकास्टिंग नेटवर्क सेल्यूलर फोन नेटवर्क इत्यादि या हम यह भी कह सकते हैं कि network hardware कॉम्पोनेंट्स का कलेक्शन और कंप्यूटर का भी कलेक्शन है जो आपस में कम्युनिकेशन चैनल के द्वारा जुड़े होते हैं और रिसोर्सेज एनिमेशन को शेयर करने की अनुमति प्रदान करते हैं प्राथमिक स्तर पर एक साधारण कंप्यूटर नेटवर्क कम से कम 2 कंप्यूटरों से बना होता है जो एक दूसरे से एक तार से जुड़े होते हैं जो डाटा को शेयर करने की अनुमति प्रदान करते हैं डाटा को शेयर करने की जरूरत के कारण ही कंप्यूटर नेटवर्किंग का अभ्युदय हुआ इसके अतिरिक्त इसके अंतर्गत डाटा और पेरीफेरल जैसे प्रिंटर्स इत्यादि को शेयर करने के लिए कंप्यूटर नेटवर्क के माध्यम से आपस में जुड़े होते हैं.

Why we use network in hindi?

कंप्यूटर नेटवर्क किसी भी संस्था की कार्य क्षमता को बढ़ाते हैं और लागत को घटाते हैं नेटवर्क तकनीक की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि कम से कम लागत में तेजी से इंफॉर्मेशन को शेयर करने की सुविधा प्रदान करता है जैसे इंटरनेट में ईमेल अतः हम कह सकते हैं कि हम नेटवर्क के द्वारा डाटा या सूचनाओं को शेयर कर सकते हैं पहले यूजर को जब भी किसी पेरीफेरल जैसे प्रिंटर की आवश्यकता होती थी तो उन्हें कंप्यूटर के द्वारा फ्री होने की प्रतीक्षा करनी पड़ती थी परंतु अब नेटवर्क के द्वारा एक से ज्यादा यूजर्स एक साथ डाटा और डिवाइस को शेयर कर सकते हैं कंप्यूटर नेटवर्क के द्वारा एप्लीकेशन को स्टैंडर्डाइज भी किया जा सकता है नेटवर्किंग के द्वारा कंप्यूटर के एडमिनिस्ट्रेशन को सेंट्रलाइज भी करता है.

Types of Network Topology

किसी भी नेटवर्क की टोपोलॉजी से तात्पर्य है उसके केबल्स कंप्यूटर और पेरीफेरल डिवाइसेज का कॉन्फ़िगरेशन करना या हम कह सकते हैं कि नेटवर्क में कंप्यूटरों तारों और अन्य कॉम्पोनेंट्स के फिजिकल लेआउट से होता है टोपोलॉजी नेटवर्क बनाने का एक आधार भी है.
वास्तव में टोपोलॉजी का मतलब होता है नेटवर्किंग में नेटवर्क को डिजाइन करना किसी नेटवर्क टोपोलॉजी उस नेटवर्क क्षमताओं को प्रभावित करती है.
किसी नेटवर्क टोपोलॉजी का चयन निम्न बातों पर निर्भर करता है.
नेटवर्क की वृद्धि
उपकरणों की क्षमता
नेटवर्क को प्रबंध करने का तरीका
नेटवर्क की आवश्यकताओं के अनुसार उपकरण का प्रकार

किसी भी नेटवर्क को अच्छे तरीके से कार्य करने के लिए टोपोलॉजी को निर्धारित करने की आवश्यकता होती है टोपोलॉजी यह बताती है कि नेटवर्क में कंप्यूटर कैसे कम्युनिकेट करेंगे नेटवर्क को इंस्टॉल करने का मतलब कंप्यूटर को केवल तार से जोड़ना नहीं होता है नेटवर्क स्थापित करने के लिए अलग-अलग तरह के तार, नेटवर्क कार्ड्स, ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ-साथ विभिन्न प्रकार के व्यवस्थापन की आवश्यकता भी होती है.

मुख्य रूप से निम्न चार बेसिक टोपोलॉजी हैं जिनसे अन्य टोपोलॉजी का निर्माण भी किया जा सकता है
बस टोपोलॉजी (Bus Topology)
स्टार टोपोलॉजी (Star Topology)
रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology)
मेष टोपोलॉजी (Mesh Topology)

इन चारों टोपोलॉजी को एक साथ कंबाइन कर अलग-अलग प्रकार की जटिल हाइब्रिड टोपोलॉजी का निर्माण भी किया जा सकता है सर्वप्रथम उपरोक्त चार टोपोलॉजी को समझना आवश्यक है.

Bus Topology (बस टोपोलॉजी)

bus topology, simple network. topolgy in hindi, computer network in hindi

बस टोपोलॉजी को लिनियर बस (Linear Bus) भी कहां जा सकता है क्योंकि इसमें कंप्यूटर एक सीधी लाइन में जुड़े होते हैं यह सबसे सरल और साधारण तरीका है सभी डिवाइसेज एक सेंट्रल केबल से जुड़े होते हैं.
बस टोपोलॉजी (Bus Topology) नेटवर्क में एक समय में एक ही कंप्यूटर Data Transmit कर सकता है क्योंकि किसी बस नेटवर्क में एक समय में एक ही कंप्यूटर डाटा भेज सकता है अतः बस से जुड़े हुए कंप्यूटरों की संख्या नेटवर्क के परफॉर्मेंस को प्रभावित करते हैं.
बस टोपोलॉजी (Bus Topology) नेटवर्क में कंप्यूटर डाटा की ऐड्रेसिंग कर डाटा को इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल के रूप में नेटवर्क में सभी कंप्यूटर्स को भेजा जाता है तथा डाटा को केवल उसी कंप्यूटर द्वारा एक्सेप्ट किया जाता है जिसका एड्रेस डाटा में इनकोड किया गया होता है और अन्य सभी के डाटा को डिस्कार्ड कर दिया जाता है बस से जुड़े हुए कंप्यूटरों की संख्या जितनी अधिक होती है कंप्यूटर पर अपना डाटा भेजने के लिए उतनी ही अधिक देर तक प्रतीक्षा करनी पड़ती है इसलिए नेटवर्क का परफॉर्मेंस धीमा हो जाता है.
वास्तव में नेटवर्क का परफॉर्मेंस केबल नेटवर्क में कंप्यूटरों की संख्या पर ही निर्भर नहीं करता बल्कि विभिन्न प्रकार के फैक्टर्स पर निर्भर करता है.

नेटवर्क में प्रयुक्त कंप्यूटर की हार्डवेयर क्षमताए (Hardware Capabiliities)
वेटिंग (Waiting) में लगे हुए कमांड (Commands) की संख्या
नेटवर्क में प्रयुक्त तार के प्रकार
नेटवर्क में कंप्यूटर के बीच की दूरियां

बस टोपोलॉजी में दोनों सिरों पर एक कॉम्पोनेंट लगाया जाता है जिसे Terminator कहते हैं जो फ्री सिग्नल को अवशोषित कर लेता है.

जैसे जैसे किसी ऑफिस या संस्था का साइज बढ़ता है वैसे नेटवर्क को बढ़ाने की आवश्यकता होती है इसके लिए या तो तार को लंबा करने के लिए बैरल कनेक्टर का प्रयोग किया जा सकता है या हम इसके लिए रिपीटर का भी प्रयोग कर सकते हैं.
तार का सिरा या तो कंप्यूटर कनेक्टेड में Plugged होता है यदि Plugged नहीं है तो उसे टर्मिनेटर से टर्मिनेट किया जाना आवश्यक है ताकि सिगनल्स को बाउंस होने से रोका जा सके यदि सिगनल्स बाउंस हो जाते हैं तो सभी नेटवर्क एक्टिविटी रुक जाती है और नेटवर्क डाउन हो जाता है.

(Repeater) रिपीटर या कनेक्टर में से चयन सावधानी पूर्वक करना चाहिए क्योंकि सिग्नल को नेटवर्क में आगे भेजने के लिए उसकी शक्ति को बढ़ाते हैं जबकि कनेक्टर को कमजोर करते हैं

Advantages Of Bus Topology:-
नेटवर्क कम होता है और इसके साथ काम करना आसान होता है सिस्टम साधारण और विश्वसनीय होता है बस टोपोलॉजी को एक्सपेंड करना आसान होता है.

Disadvantages of Bus Topology:-
ट्रैफिक लोड अधिक होने पर नेटवर्क धीरे हो जाता है इसमें समस्याओं का पता लगाना कठिन होता है.
इसमें तार में खराबी होने या उसके टूट जाने पर अन्य काम प्रभावित होते हैं.



स्टार टोपोलॉजी (Star Topology)
star topology in hindi, network in hindi, topology network in hindi, computer networks in hindi

स्टार टोपोलॉजी में हर कंप्यूटर को एक सेंट्रलाइज्ड डिवाइस से जोड़ा जाता है जिसे Hub कहते हैं.

स्टार टोपोलॉजी (Star Topology)
नेटवर्क में डाटा भेजने वाले कंप्यूटर से डाटा सिग्नल को Hub द्वारा सभी कंप्यूटर को भेजा जाता है स्टार टोपोलॉजी नेटवर्क में सभी कंप्यूटर एक सेंट्रल पॉइंट से जुड़े होते हैं अतः नेटवर्क को इंस्टॉल करने के लिए बहुत अधिक तारों की जरूरत होती है स्टार टोपोलॉजी नेटवर्क में सेंट्रलाइज्ड रिसोर्सेज एंड मैनेजमेंट का लाभ होता है यदि नेटवर्क में Hub फेल हो जाता है तो नेटवर्क पूरा डाउन हो जाता है लेकिन यदि Hub से जुड़ा कोई कंप्यूटर फेल होता है तो केवल उस कंप्यूटर को ही नेटवर्क से अलग करते हैं और शेष नेटवर्क में कार्यरत रहते हैं स्टार टोपोलॉजी को इंस्टॉल करना आसान होता है इसमें फॉल्ट्स का आसानी से पता लगाया जा सकता है.

Advantages Of Star Topology
स्टार टोपोलॉजी नेटवर्क में सिस्टम को मॉडिफाई करना आसान होता है.
सिस्टम में नए कंप्यूटर को जोड़ना आसान होता है और किसी एक कंप्यूटर के फेल होने पर शेष नेटवर्क कार्यरत रहता है.

Disadvantages Of Star Topology
स्टार टोपोलॉजी नेटवर्क में यदि सेंट्रलाइज Point मतलब Hub फेल हो जाता है तो पूरा नेटवर्क डाउन हो जाता है.



रिंग टोपोलॉजी (Ring Toppology)

ring topology, topology in hindi, network in hindi, computer network in hindi

बस टोपोलॉजी की तरह इसमें तार को कोई भी सिरा एंड टर्मिनेटर से टर्मिनेट नहीं होता है, रिंग टोपोलॉजी में कंप्यूटर्स को सर्किल शेप में जोड़ा जाता है और नेटवर्क में डाटा सिग्नल रूप में एक ही दिशा में ट्रैवल करते हैं और हर कंप्यूटर से होकर गुजरते हैं.
नेटवर्क में एक कंप्यूटर फेल हो जाने से पूरा नेटवर्क प्रभावित होता है.
रिंग टोपोलॉजी नेटवर्क में प्रत्येक कंप्यूटर एक रिपीटर की तरह कार्य करता है और डाटा सिगनल्स को बूस्ट कर आगे वाले कंप्यूटर को भेजता है.
रिंग टोपोलॉजी में डाटा को ट्रांसलेट करने के लिए टोकन पासिंग मेथड का प्रयोग किया जाता है हर रिंग टोपोलॉजी में एक ही टोकन होता है एक टोकन बिट्स को एक विशिष्ट सीरीज है जो टोकन रिंग नेटवर्क में चारों ओर ट्रेवल करता है जिस भी कंप्यूटर को डाटा भेज ना होता है वह टोकन में एक इलेक्ट्रॉनिक एड्रेस को जोड़ता है तथा उसे रिंग में भेज देता है और यह टोकन नेटवर्क में हर कंप्यूटर से होकर तब तक गुजरता है जब तक उसे उपयुक्त एड्रेस नहीं मिल जाता.
जब कंप्यूटर उस टोकन को एक्सेप्ट कर लेता है तो रिसीविंग कंप्यूटर द्वारा सेंडिंग कंप्यूटर को एक संदेश भेजा जाता है जो यह बताता है की डाटा को प्राप्त कर लिया गया है टोकन पासिंग में ज्यादा समय नहीं लगता है वास्तव में टोकन करीब-करीब प्रकाश की गति से ट्रेवल करता है.
रिंग टोपोलॉजी में नेटवर्क इंस्टॉल करना थोड़ा मुश्किल होता है

Advantages of Ring Topology
सिस्टम सभी कंप्यूटर के लिए एक सम्मान एक्सेस प्रदान करता है इस नेटवर्क में प्रयोग करता की संख्या अधिक होने पर भी परफॉर्मेंस सभी यूजर्स के लिए एक सम्मान होता है.

Disadvantage of Ring Topology
नेटवर्क में किसी एक कंप्यूटर के फेल होने का प्रभाव शेष नेटवर्क पर भी पड़ता है इसमें समस्या का पता लगाना कठिन होता है और नेटवर्क को रिकंफीग्र करना कठिन होता है



मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology)

mesh topology, computer network in hindi, computer network hindi, topology in hindi

मेश टोपोलॉजी में प्रत्येक कंप्यूटर को एक दूसरे से अलग अलग तारों से जोड़ा जाता है इस कॉन्फ़िगरेशन के कारण नेटवर्क में पर्याप्त Path का निर्माण होता है अतः किसी भी तार के फेल हो जाने से ट्रैफिक दूसरे path से जारी रहता है अधिक तारों का प्रयोग होने के कारण मेश टोपोलॉजी नेटवर्क स्थापित इंस्टॉल करने में खर्च ज्यादा होता है मेश टोपोलॉजी का प्रयोग अन्य टोपोलॉजी के साथ हाइब्रिड टोपोलॉजी का निर्माण करने के लिए किया जा सकता है.

Advantage of Mesh Topology
मेश टोपोलॉजी नेटवर्क रिलायबिलिटी प्रदान करता है और इसे ट्रबलशूट करना आसान होता है.

Disadvantage of Mesh Topology
मेश टोपोलॉजी नेटवर्क को इंस्टॉल करना मुश्किल और खर्चीला होता है क्योंकि इसमें बहुत अधिक तारों का प्रयोग किया जाता है.


Read Also:-

Previous
Next Post »